Sunday, October 17, 2010

मकसद छुट गया पीछे




नाक्सालियो की बातो पर गौर करें तो लगता है की वे ही आदिवाशियो के सबसे बड़े परोकर है.पर खुनी तांडव देकने क बाद लगता है की सामंतवाद,पूजीवाद और सामाजिक असमानता को मिटने के टारगे पर बनाया गया ये विचार या यु कहें की नाक्साली अभियान का मकसद शायद खुद नाक्सालियो के पनाह गाह बने घने जंगलो की अंजन सी राहों में खो गई है.

No comments:

Post a Comment